आशिकी को गलत अंजाम देते आशिक!

स्नैपडील की सेक्रेटरी दीप्ती सरना के अपहरण का रहस्य खुल गया है। दीप्ती का अपहरण एक साइको किलर ने किया था। जिस पर 3 लाख का इनाम है और कई बार वह हवालात की हवा भी खा चुका है।
फिल्मों से प्रभावित एकतरफा प्यार के कई ऐसे मामले देखने को मिले हैं जिसमें या तो आशिक ने खुद जान दे दी है या जिससे प्यार किया है उसकी जिन्दगी बर्बाद कर दी है।
How-to-Attract-One-Side-Love-By-Black-Magic
दीप्ती के केस में सनकी प्रेमी ने चार साथियों के साथ मिलकर साजिश को अंजाम दिया। प्यार में पड़े युवक को दीप्ती का असली नाम भी नहीं पता था।
पुलिस की हिरासत में आने के बाद उसे दीप्ती का नाम पता चला।
प्यार में पागल देवेन्द्र ने बताया कि वो शाहरुख खान का फैन है और पिछले डेढ़ साल से अपहरण की साजिश कर रहा था। उसने सौ से ज्यादा बार शाहरुख की ‘डर’ फिल्म देखी है। उसे शाहरुख की अंदाज-ए-आशिकी बहुत पसंद है।
शुक्र है कि दीप्ती सही सलामत अपने घर वापस आ गई लेकिन यह घटना विकृत रूप ले सकती थी। ऐसा पागलपन हमारे समाज को एक असुरक्षित माहौल की तरफ ले जा रहा है।
जरुरी नहीं है कि प्रेम दोतरफा हो और अपने बराबर हैसियत रखने वालों से हो।
लेकिन क्या अपने आप को स्वीकारे जाने के लिए, किसी के दिल में जगह पाने के लिए खुद को गुनाह के दलदल में ले जाना जरुरी है? अक्सर हमें सुनने को मिलता है कि किसी घटना का मुख्य कारण प्रेम-त्रिकोण था तो कहीं एकतरफा प्यार था।
आज अपराध और प्यार मानो एक-दूसरे के पूरक हो गए हों।
हमें प्यार की परिभाषा दोबारा समझने की जरुरत है। प्रेम में पाना-खोना कुछ होता ही नहीं है और खुद को साबित करने की जरुरत भी नहीं होती।

LEAVE A REPLY