अखरोट से दिखे हमेशा जवान!

अखरोट के जरिए शरीर से बेकार कोलेस्ट्रोल निकालने के साथ-साथ अखरोट एक अच्छा प्रोटीन का सोर्स माना जाता है | ओमेगा-3 फेटी एसिड होने के साथ-साथ यह एंटी-इंफ्लेमैट्री के जरिये ब्लड शुगर के खतरे को भी कम करता है |

ड्राईफ्रूट्स में अखरोट सबसे अच्छा माना जाता है!

हाल ही में हुई रिसर्च के मुताबिक़ हफ्ते में 1-2 बार एक चोथाई कप अखरोट खाने वाली महिलाओ की शारीरिक परेशानियों की संभावना कम हो गयी है | ज्यादातर फलियो (नट) में से अखरोट (वालनट) का ख़ास स्थान है इसके जरिये एजिंग से भी बचा जा सकता है |

1303566.large

पालीअनसेचुरेटेड वसा, ओमेगा-3 फेटी एसिड, अल्फ़ा-लिनोलेनिक एसिड आदि इस तरह की अम्लीय पदार्थ शामिल है एक ओसत अखरोट में (28.5) ग्राम में (2.5) ग्राम एएलए (अल्फ़ा-लिनोलेनिक एसिड) पाया जाता है |

एजिंग को बढती उम्र में करे कम!

अमेरिका में ब्रिघम एंड विमन हास्पिटल, प्रोफेसर फ्रांसीन ग्राडीसीन जो कि हार्वर्ड मेडिकल स्कूल के प्रोफेसर है ने कहा कि डाईवीटीज और हर्ट से होने वाली बीमारियों से अखरोट के जरिये बचा जा सकता है | एजिंग और बदती उम्र से होने वाली बीमारियों में यह बहुत ही सहायक है |

ये भी पढ़े: “घर में भूत तो नहीं है” पता लगाये अपने नए स्मार्ट से 

हरी सब्जिया खाने से बुढापे में कोई परेशानी नहीं होती और चीनी से जुड़े पदार्थ, ट्रांस वसा और सोडियम कम मात्रा और शराब का कम सेवन से बुढापे में होने वाली शारीरिक समस्याएं कम होंगी |         

LEAVE A REPLY