सड़क हादसे में निरंकारी संत हरदेव सिंह का निधन

आज का दिन निरंकारी पंथ मनानें वालों के लिए सबसे काला दिन बन गया. निरंकारी संप्रदाय के सबसे प्रमुख संत निरंकारी बाबा हरदेव सिंह जी का कनाडा में सड़क हादसे में मौत हो गया. जैसे ही यह खबर लोगों के बीच आई उसके बाद पूरे दुनिया में निरंकारी पंथ से जुड़े लोगों के बीच शोक की लहर दौड़ गई.

baba_146313045392_650_051316023755

मीडिया की खबरों में जो जानकारी अब तक निकल कर सामने आई है, उसके मुताबिक निरंकारी बाबा अपने कार में बैठ कर कहीं जा रहे थे. कार को उनका ही कोई रिश्तेदार ड्राइव कर रहा था. तभी यह हादसा हो गया. जिसमें निरंकारी बाबा गंभीर रूप से घायल हो गये. हादसे के तुरंत बाद बाबा निरंकारी को अस्पताल ले जाया गया लेकिन अस्पताल पहुंचने के बाद भी उनकी जान नहीं बच पाई.

जरुर देखिये: मज़ार, जहाँ चढ़ावे में चढ़ती हैं घड़ियाँ

खबरों के अनुसार यह सड़क हादसा  कनाडा के मॉन्ट्रियल शहर में हुआ हैं. इन सभी बातों की पुष्टि खुद बाबा के दामाद ने किया है.

बाबा हरदेव सिंह का जन्म वर्ष 1954 दिल्ली में हुआ था. उनकी शुरुआती पढ़ाई-लिखाई घर पर ही हुई थी. बाद में वो दिल्ली के ही रोयसरी पब्लिक स्कूल गए, उसके बाद पटियाला के एक स्कूल में उन्होंने पढ़ाई की. बाद में वह फिर दिल्ली आ गये और दिल्ली यूनिवर्सिटी से ग्रेजुएशन किया था.

1971 में बाबा हरदेव सिंह ने निरंकारी सेवा दल में एक सामान्य कार्यकर्ता के रूप में काम करना शुरू किया था. वर्ष 1975 में सविंदर कौर नाम की महिला से शादी किये.

संत निरंकारी मिशन की शुरुआत 1929 में बाबा बूटा सिंह द्वारा की गई थी. 2009 तक इस संगठन की 27 देशों में 100 शाखाएं थीं.

LEAVE A REPLY