यहां ‘सूअरों’ के बीच है हनी सिंह के गानों का खौफ

पार्टियों में, घरों में और गाड़ियों में आपने यो यो  हनी सिंह के गानें तो खूब बजते हुए सुने होंगे। लेकिन उनके गाने ब्राउन रंगको सुनकर कोई डर भी सकता है। जी हाँ, सुनकर थोड़ा अजीब लग रहा होगा आपको। लेकिन ऐसा हो रहा है उत्तराखंड में।

हर वर्ष जंगली सुअर उत्तराखंड के जंगलों में फसलों का भारी नुकसान करते हैं। उत्तराखंड सरकार ने भारी नुकसान के कारण इन जानवरों को मारने की अनुमति भी दी हुई है लेकिन फिर भी जंगली सुअरों का फसलों पर कहर कम नहीं हो रहा।

honey singh

जंगली सुअरों और दूसरे जानवरों से फसलों को बचाने के लिए नैनीताल के किसानों ने एक नया तरीका ढूंढ निकाला है। जानवरों को खेतों से दूर भगाने के लिए किसान हनी सिंह का रैप बजा रहे हैं। जंगली जानवर इन गानों को सुनते ही खेतों से दूर भाग जा रहे हैं।

अपनी फसल को जानवरों के कहर से बचाने के लिए नैनीताल के धारी गाँव के एक किसान ने अपने खेत के चारों तरफ लाऊडस्पीकर लगाकर हनी सिंह के गाने बजाए। जब उन गानों की आवाज़ सुनकर जंगली सुअर दूर भागने लगे तो उनकी खुशी का ठिकाना न रहा।

कुछ किसानों इस तरीके में थोड़ा सा बदलाव किया और अपने खेतों के चारो तरफ लाऊडस्पीकर लगाकर हनी सिंह के गाने और दूसरे पंजाबी गाने भी बजाये। ये तरकीब सफल रही और जानवर इन गानों का शोर सुनकर खेतों से दूर भागने लगे।

किसानों का कहना है कि जहाँ इन्सानों की आहट बनी रहती है वहाँ से जानवर दूर रहते हैं। इंसानों की मौजूदगी का एहसास कराने के लिये संगीत बजाना ही हमें सही लगा।  और उन्हें इस बात की खुशी भी है कि उनका आजमाया हुआ ये तरीका काम भी कर रहा है।

आसपास के दूसरे किसान और ग्रामीण भी इस तरीके की सफलता को देखते हुए अपने खेतों के आसपास भी इसी तरह के गाने बजा रहे हैं।

LEAVE A REPLY