आखिर काला जादू है क्या और इससे कैसे बचा जा सकता है!

आपको ये तो पता ही होगा की उर्जा केवल उर्जा ही होती है,उर्जा न तो दैवी है, और न ही शैतानी शक्ति ! और आप उससे कुछ भी नही बना सकते है – न ही देवता और न ही शैतान ! यह बिजली की तरह होती है! क्या बिजली दैवी या शैतान या अच्छी बुरी होती है? उर्जा वह दिव्य शक्ति है जो हमारे घरों को रोशन करती है!

Real-Black-Magic

अगर वह एक बिजली की कुर्सी बन जाती है,तो शैतानी होती है,यह केवल इस बात पर निर्धारित करती है की उस पल उसे संचालित कोन करता है! दरहसल,आज से पांच हजार साल पहले,कृष्ण भगवान से अर्जुन ने भी यही प्रश्न किया था, की आप कहते है की उर्जा से बनी हर वस्तु दैवी है,अगर वही देवत्व दुर्योधन में भी है, तो वह ऐसे काम क्यों कर रहा है!

कृष्ण भगवान मुस्कराते हुए बोले ‘ईश्वर की महिमा अपरम पार है, दिव्यता ही उर्जा है ! उर्जा का कोई अपना कोई स्थान नही है! इसका अर्थ है की वह बस विशुद्ध उर्जा है! आप उससें कुछ भी नही बना सकते है!

जो शेर आपको खाने आता है, उसमे भी वही उर्जा है और कोई भगवान नही देवता जो आपको आकर बचा सकता है,उसमे भी वही उर्जा है! फर्क बस इतना सा है की वह अलग अलग तरीके से काम करते है और आज भी कर रहे है !जब आप अपनी कार चलाते है,तो क्या वह अच्छी या बुरी होती है?वह आपका जीवन बना सकतीं है,या किसी भी पल आपका जीवन समाप्त भी कर सकती है क्यों सही है या नही!

LEAVE A REPLY