सांप के काटने से युवक की मौत, परन्तु अर्थी पर से जिंदा उठा!

भोपाल में सोमवार को एक युवक की सांप के काटने से मोत हो गयी परन्तु जब लोग उसे जलाने के लिए ले जा रहे थे तभी वह जिन्दा हो गया | तभी तुरंत उसे अस्पताल लाया गया इसी बीच उसकी झाड़-फूंक भी कराई गई | लेकिन तीन घंटे बाद उसकी मौत हो गई |

रायसेन में जिन्दगी और मौत को लेकर मंगलवार को काफी खीचातानी चली | ग्राम खेरयाई के निकतरा में पेट्रोल पम्प के पास रहने वाले भगवान् सिंह सेन का पुत्र संदीप जो कि 23 वर्ष का था जंगल में लकड़ी काटने गया हुआ था तभी अचानक उसके सांप ने काट लिया | घर आकर यह बात उसने अपने परिवार को बताई | यह सुनते ही उसके परिवार वाले तुरंत उसे विदिशा जिले के सीहोड़ ग्राम के देव स्थान पर झाड-फूंक के लिए ले गये यह पर उसने रात ही में दम तोड़ दिया | तभी संदीप के परिवार वाले उसका शव लेकर घर वापस आ गये और उसकी शमशान घाट तक की अंतिम यात्रा निकालने की तेयारी करने लगे |

snake-bite

जी उठा अंतिम संस्कार से पहले

जब चिता पर उसे लिटा कर ले जाने का समय हुआ तभी वह अचानक चिल्लाया उसकी आवाज सुनकर परिवार वालो ने उसे चिता से निचे उतार कर पानी पिलाया | तभी उसे अस्पताल ले जाने की बजाए उसे उसी जिले के उसी ग्राम में ले गए जहां पहले लेकर गए थे ताकि झाड-फूंक से वह बच सके | लेकिन उसने भी उसे मृत घोषित कर दिया | अस्पताल में उसका पोस्टमार्डम हुआ परन्तु उसके मरने के बाद भी अंधविश्वास जारी है |

ये भी पढ़े: ऐसी अभिनेत्री जो साँप पकड़ने में है एक्सपर्ट 

अंतिम विदाई पर भी हुआ वाद-विवाद

असल में कुछ लोगो का मानना था कि सांप के काटने से जो भी मरता है उसे जलाना नहीं चाहिए बल्कि दफनाना चाहिए फिर कब्र खुदी गई लेकिन ग्राम के लोग इससे संतुष्ट नहीं थे फिर जल्दबाजी में उसे जलाया ही गया दफनाने के बजाए |

भाई और पिता ने सुनी चिता की आवाज

संदीप के भाई रवि सेन ने बताया कि उसने संदीप की आवाज सुनी थी तभी उसे चिता से उतारा गया यही बात ग्राम के दागी ने भी बताई थी सोमवार को जब संदीप को जलाने का इन्तेजाम हो रहा था तभी वह अचानक चिल्लाया हमने उसको चिता से उतारा और पानी भी पिलाया उसके पिता का कहना है कि चिता से उठने के बाद वह 3 घंटे तक ज़िंदा रहा तभी हम उसे झाड-फूंक वाले के पास लगये थे लेकिन उसने भी उसे मृत घोषित कर दिया |

LEAVE A REPLY